रात में खांसी आने का कारण

मौसम में अचानक होने वाले बदलाव अथवा विभिन्न प्रकार के इंफेक्शन जैसे वायरल इनफेक्शन या साइनस इनफेक्शन आदि के कारण बुखार और खांसी जन्म ले लेती है। ऐसे समय में विभिन्न प्रकार के दवाओं का सेवन भी खांसी से छुटकारा नहीं दिला पाता और रात के समय खांसी बहुत अधिक बढ़ जाती है। यदि लंबे समय से रात में खांसी हो रही हो तो रात में खांसी आने का कारण जानने के साथ-साथ khasi kaise thik kare के बारे में जानना बेहद जरूरी हो जाता है। गले से कफ निकालने के उपाय और खांसी की आयुर्वेदिक दवा की जानकारी होना आवश्यक है, खासकर उस वक्त जब रात में खांसी की समस्या पैदा हो।

रात में खांसी आने का कारण – Cause of Cough at Night in Hindi

रात में खांसी आने का कारण कई प्रकार का हो सकता है। रात में खांसी आने का कारण निम्नलिखित हैं –

१. रात में खांसी आने का कारण यह भी हो सकता है कि आप जिस कमरे में सो रहे हैं, उस कमरे में धूल जमी हो और चारो तरफ गंदगी फैली हो। कमरे के पर्दे, पंखे या अन्य सामानों पर जमी हुई धूल फेफड़ों में जाती है, जिससे खांसी की समस्या हो सकती है।

२. गले में कफ जम जाने से खांसी की समस्या पैदा होती है और रात में इससे काफी परेशानी होती है। कफ या बलगम का सीरप पी कर सोने से यह समस्या नहीं होती है और आराम मिलता है।

३. कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम आदि ठंडे पदार्थ होते हैं जो बिना किसी कारण खांसी के कारण बनते हैं।

४. कई बार व्यक्ति को अस्थमा हो जाने पर खांसी के रूप में उसके लक्षण सामने आते हैं। इसका मतलब खांसी आने का कारण अस्थमा भी हो सकता है।

५. कई बार वायरल इंफेक्शन के कारण खांसी की समस्या पैदा होती है।

६. सर्दी या फ्लू के कारण खांसी की समस्या रात में हो सकती है।

७. गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज रात में खांसी का कारण बनती है।

खांसी कैसे ठीक करें – How to Cure Cough in Hindi

हर साल मौसम के बदलने, कई प्रकार के इंफेक्शन, सर्दी आदि के कारण खासी की समस्या होना लाजमी है। ऐसे में खांसी कैसे ठीक करें एक बड़ा प्रश्न बन जाता है। खांसी की समस्या को ठीक करने के लिए हमारे रसोई में ही कई ऐसे आसान विकल्प मिल जाते हैं, जिससे खांसी की समस्या को चुटकियों में ठीक किया जा सकता है। यदि khasi kaise thik kare के बारे में पूरी जानकारी इकट्ठा नहीं कर पा रहे हैं तो आपको बता दें कि खांसी ठीक करने के तरीके निम्नलिखित हैं।

१. गर्म पानी

खांसी ठीक करने के लिए अधिक से अधिक पानी पीना आवश्यक है लेकिन यदि गर्म पानी का सेवन किया जाए तो इससे खांसी में तुरंत राहत मिलता है और लाभ पहुंचता है।

२. हल्दी दूध

हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट किसी औषधि से कम नहीं होते। यदि इसे दूध में मिलाकर पिया जाए तो काफी कम समय में खांसी से छुटकारा मिलता है और खांसी ठीक हो जाती है।

३. गर्म पानी और नमक

खांसी को ठीक करने के लिए गर्म पानी और नमक सबसे अच्छा उपाय है। गर्म पानी में एक चुटकी नमक डालकर उसका गरारा करने से खांसी में आराम मिलता है।

४. मसाला चाय

चाय में मसाले जैसे तुलसी, अदरक, काली मिर्च और लौंग को मिलाकर यदि बनाया जाए तो इससे खांसी में तुरंत राहत मिलता है। मसाला चाय का इस्तेमाल करने से खांसी से छुटकारा मिल जाता है।

खांसी की आयुर्वेदिक दवा – Ayurvedic Medicine for Cough in Hindi

खांसी की आयुर्वेदिक दवा के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के घरेलू उपचार संबंधित हैं, जो हमारे रसोई घर में मौजूद हैं। इनका इस्तेमाल कर खांसी को बड़ी आसानी से खत्म किया जा सकता है। खांसी की आयुर्वेदिक दवा निम्नलिखित हैं।

१. तुलसी

जब भी घरेलू औषधि की बात आती है तो तुलसी का नाम सबसे पहले आता है क्योंकि यह एक एंटीबायोटिक की तरह काम करता है। खांसी होने पर तुलसी के पत्ते को लेकर उसके साथ अदरक काली मिर्च आदि डालकर उसे उबालकर अब उसका काढ़ा बनाकर पी सकते हैं इससे खांसी जल्दी ठीक हो जाती है।

२- शहद

गले में खराश होने पर या फिर छाती पकड़ लेने पर एक चम्मच शहद में एक चुटकी काली मिर्च और एक चुटकी अदरक का रस को मिलाकर उसे रोज सुबह और रात को सोने से पहले पीना चाहिए इससे सुखी और गीली खांसी आदि से राहत भी मिलती है और यह पाचन का भी कार्य करता है।

३. दालचीनी

बस छोटी सी लकड़ी में औषधि की सारी गुण भरी हुई है या ना सिर्फ आपकी खांसी को ठीक करता है बल्कि आके गले की खराश में भी फायदेमंद है बस आप अपनी रोजाना ब्लैक टी में चुटकी भर दालचीनी मिलाकर ले या फिर शहद में थोड़ी दालचीनी का मिश्रण लेकर इसे दिन में लगभग दो बारी 3 दिन तक लेने से स्वास्थ्य पर अच्छा असर पड़ता है।

४. सोंठ

सोंठ में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जो गले की खराश और सूजन में फायदेमंद साबित होते हैं। एक चम्मच शहद में एक चम्मच सोंठ मिलाकर पीने से गले की परेशानी से राहत मिलती है। एक पैन में 2-3 टेबलस्पून देसी घी, 2- 3 टेबल स्पून सोंठ और 2 से 3 बड़ा चम्मच गुड लेकर गर्म कर इसे पी सकते हैं।

गले से कफ निकालने के उपाय – Remedies to Remove Phlegm From Throat in Hindi

कई बार खांसी और बुखार में दवाइयों का सेवन करने से बुखार की समस्या समाप्त हो जाती है लेकिन खांसी के साथ-साथ गले में कफ जम जाता है। गले में कफ जम जाने से कई सारी परेशानियां होती है। गले से कफ निकालने के उपाय अपनाकर आप आसानी से खांसी को ठीक कर सकते हैं। गले से कफ निकालने के उपाय निम्नलिखित हैं।

गले में कफ जम जाने पर पर्याप्त मात्रा में भोजन करना जरूरी है, जिससे शरीर में पोषण की आपूर्ति हो सके।

गले में कफ जम जाने पर इसे निकालने के लिए अधिक से अधिक मात्रा में पानी पीना आवश्यक होता है।

रात के समय ब्रश करके सोने से गले का कफ आसानी से निकल जाता है क्योंकि मुंह के बैक्टीरिया गले में कफ नहीं जमा पाएंगे और जमा हुआ कफ आसानी से निकल जाएगा।

घर से बाहर निकलते समय अपने मुंह और नाक को कपड़े या रुमाल से ढंक लें। इसके अलावा मास्क का भी प्रयोग कर सकते हैं, ताकि बाहर के गंदगी मुंह में न जा सके और जमा हुआ कफ निकल जाए।

गले में कफ जम जाने पर इसे निकालने के लिए नॉर्मल पानी का ही सेवन करें। ठंडे पानी या आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक जैसे ठंडे पदार्थों का इस्तेमाल करना हानिकारक हो सकता है।

खांसी में क्या नहीं खाना चाहिए – What Not to Eat in Cough in Hindi

मॉनसून के बदलने से अथवा बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण भी खांसी की समस्या बढ़ जाती है। रात में खांसी आने का कारण कई प्रकार का हो सकता है लेकिन कुछ चीजें ऐसी हैं, जिनका खांसी के समय सेवन नहीं करना चाहिए। खांसी में क्या नहीं खाना चाहिए, इसके बारे में पता होना बहुत आवश्यक है अन्यथा खासी की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जाती है और सुधार करना मुश्किल हो जाता है। इस कारण खांसी में निम्नलिखित चीजों का इस्तेमाल सख्त मना किया जाता है।

१. दही

खांसी से पीड़ित व्यक्ति को रात के समय दही का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। रात में दही का सेवन करने से गला ठंडा पड़ जाता है और म्यूकस बनने लगता है जिसकी वजह से बहुत अधिक खांसी होती है।

२. दूध

खांसी में बहुत लोग दूध का सेवन करते हैं लेकिन बता दें कि खासी के समय कभी भी दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके सेवन से छाती में कफ जमने लगता है, जो रात के समय परेशानी का कारण बनता है।

३. चावल

चावल का सेवन करने से खांसी में और अधिक समस्या उत्पन्न होती है। इसका सेवन करने से बलगम बनने लगता है, जो खांसी को और अधिक बढ़ा देता है। इसलिए खांसी में चावल का सेवन सख्त मनाया जाता है।

४. चीनी

चीनी का सेवन खांसी के समय में घातक होता है। दरअसल चीनी का सेवन करने से सीने में इन्फ्लेमेशन की दिक्कत ट्रिगर होती है। इसलिए चीनी के सेवन को भी मना किया जाता है।

५. अल्कोहल

खांसी के समय अल्कोहल का सेवन करने से खांसी की समस्या बहुत अधिक बढ़ जाती है। अल्कोहल शरीर में जाकर छाती के इन्फ्लेमेशन की समस्या को बढ़ाता है, जिससे खांसी के समय दिक्कत बढ़ जाती है।

निष्कर्ष

रात में खांसी आने का कारण कई प्रकार के हो सकते हैं लेकिन हमारे रसोई घर में ही कई ऐसे घरेलू उपाय मौजूद होते हैं, जिससे आसानी से खांसी की समस्या से आराम मिलता है। खांसी की आयुर्वेदिक दवा के माध्यम से भी गले के कफ को निकाल कर खांसी से छुटकारा पाया जा सकता है।